सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ताड़ासन करने की विधि:ताड़ासन के फायदे,ताड़ासन करते वक्त रखे इन बातों का विशेष ध्यान।

 अगर आप एक स्वस्थ जीवन जीने की कल्पना करते हो तो अपने इस कल्पना में सही खानपान के साथ योगाभ्यास को जरूर शामिल करे,क्योंकि बगैर योगाभ्यास के स्वस्थ जीवन व्यतीत करना थोड़ा मुश्किल सा लगता है,हमारे हिंदू शास्त्र में योगाभ्यास को बहुत ही उच्च कोटि का दर्जा दिया गया है, अपितु भगवान शिव को अदियोगी के नाम से भी जाना जाता हैं,योग हमे शारीरिक,मानसिक और हमारे ध्यान को एकाग्र रखने में बहुत ही मदद करता हैं,आज हम इस लेख में ताड़ासन योगाभ्यास के बारे में जानकारी देने की कोशिश करेंगे,ताड़ासन महत्वपूर्ण आसनों में से एक है,इस आसन को करने से शरीर स्वस्थ और मानसिक तनाव भी कम होता है।

ताड़ासन करने की विधि:ताड़ासन के फायदे,ताड़ासन करते वक्त रखे इन बातों का विशेष ध्यान।

विषय सूची

ताड़ासन किसे कहते हैं 

ताड़ासन की विधि

शुरुआती लोगों के लिए ताड़ासन करने के टिप्स 

ताड़ासन के लाभ

ताड़ासन कब करना चाहिए

ताड़ासन कितनी देर तक करना चाहिए

ताड़ासन के सावधानियां

निष्कर्ष

ताड़ासन किसे कहते हैं (what is called tadasana in Hindi):

ताड़ासन संस्कृत के दो शब्दो (ताड़+आसन) से मिलकर बना हुआ एक आसन है जिसमे ताड़ का मतलब होता है पर्वत और आसन का मतलब होता है स्थिति या फिर मुद्रा,यानी इसका मतलब हुआ कि पर्वत की मुद्रा में होना,इसे अंग्रेजी में माउंटेन पोज (mountain pose) के नाम से जाना जाता हैं।

ताड़ासन को सरल आसनों की श्रेणी में रखा जाता है,क्योंकि इस आसन को करना बहुत ही आसन माना जाता है,इस आसन को खड़े होकर किए जाने वाले आसनों की नीव कहा जाता हैं,यह आसन करने से लंबाई बढ़ने के साथ ही साथ पाचन तंत्र,मधुमेह और आसन के पोस्चर को ठीक करने,आपके छोटे से छोटे मांशपेशियों को लचीला बनाने,में मदद करता हैं,साथ ही ये आपके शरीर को आकर्षित बनाने,आपको चुस्त और दुरुस्त बनाने में भी सहायक है,इस आसन को नियमित करने से आपके शरीर में जमी चर्बी को भी कम करके आपका वजन कम करने में मदद करता है।

इस आसन को अन्य कई और नामो जैसे स्वर्गीय योग, पॉम ट्री पोज,और पर्वत आसन से भी जाना जाता है।


ताड़ासन की विधि (Method of Tadasana in Hindi):

ताड़ासन करने के लाभ तभी मिल सकता हैं जब इस आसन को सही तरीके से किया जाय गलत तरीके से ताड़ासन करने से इस आसन का लाभ मिलना मुश्किल है,नीचे ताड़ासन की विधि बताई गई है।

ताड़ासन करने की विधि:ताड़ासन के फायदे,ताड़ासन करते वक्त रखे इन बातों का विशेष ध्यान।

  • किसी भी आसन को करने से पहले एक शांत और हवादार माहौल का चुनाव करना बहुत जरूरी होता है।
  • अब इस हवादार माहौल में योग मैट पर खड़े हो जाए,अपने कमर और पैर को एक दम सीधा रखे।
  • अपने दोनो पैर की एंडी को एकदम सटा कर रखे।
  • अपने दोनो हाथों को बगल में सटाकर रखें।
  • अब अपने दोनो हाथों को सामने करें,और अपने दोनों हाथों की अंगुलियों को एक दूसरे में फसाए।
  • अब अपने इन फसे हुए हाथो को सिर के ऊपर आकाश की और लेकर जाए।
  • अब सांसो को अंदर की ओर खींचते हुए पंजों के बल खड़े होने की कोशिश करें।और अपने शरीर को जितना संभव हो सके उतना ऊपर की ओर खींचे।
  • अब इस पोजीशन में आप अपने क्षमता के अनुसार कुछ देर तक रहने की कोशिश करे,इस अवस्था के दौरान आप अपनी सांस की ले और छोड़ सकते है।
  • ध्यान रहे इस दौरान आपके शरीर का पूरा भार आपके दोनों पंजों पर होना चाहिए।
  • अब आप थोड़ी देर इस अवस्था में रहने के पश्चात अपनी सांस छोड़ते हुए अपने प्रारंभिक अवस्था में आ जाए।

इस तरह से इस आसन का एक चक्र पूरा होता है,आप इस प्राणायाम को सात से आठ बार कर सकते है,और अपनी क्षमता के अनुसार इस अवधि को बढ़ा सकते हैं।


शुरुआती लोगों के लिए ताड़ासन करने के टिप्स (Beginner’s Tip to do Tadasana in Hindi):

ताड़ासन करना बहुत ही आसन योगाभ्यास माना जाता है,लेकिन शुरुआत में यानी की जो पहली बार इस आसन की अभ्यास करने की कोशिश करता है,उसे बैलेंस बनाने में दिक्कत होती हैं ऐसे में उन बिगीनर्स के लिए कुछ टिप्स नीचे दिए गए हैं।

  • शुरुवात में अगर आप पंजे के बल खड़े होकर संतुलन बनाए रखने में असमर्थ हैं तो ऐसे में आप अपने पैरो को सटाकर रखने की बजाय थोड़ी जगह देकर खड़े हो,या फिर दीवार का सहारा ले सकते हैं।
  • आप अपने शरीर को बहुत ज्यादा ऊपर की ओर खींचने की कोशिश न करें अपनी क्षमता अनुसार ही करे।
  • इस पोजीशन में बहुत देर तक न रहे।
  • अगर आप नियमित रूप से योग नही करते है तो ऐसे में इस आसन को करने से पहले कुछ आसान से आसन करना जरूरी है,जैसे पद्मासन,सुखासन,शवासन,ये सभी आसन आपके शारीर को लचीला बनाने में मदद करेंगी।


ताड़ासन के लाभ (Benefits of Tadasana in Hindi):

ताड़ासन, जिसे पर्वत मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है, योग में एक मूल खड़ी मुद्रा है जिसके शरीर और मन के लिए कई लाभ हैं। ताड़ासन के कुछ लाभों में शामिल हैं:

1.हाइट बढ़ाने में ताड़ासन फायदेमंद (Tadasana is beneficial in increasing height in Hindi):

हाईट ना बढ़ने का कारण पोषक तत्व की कमी का होना हो सकता है,ऐसे में अगर आप किशोरी अवस्था में है,या फिर आपके बच्चे की हाइट उम्र के अनुसार कम है तो ऐसे में आपको पोषक तत्व के सेवन के साथ रोज नियमित रूप से ताड़ासन करने की जरूरत है,योग एक्सपर्ट के अनुसार ताड़ासन को नियमित रूप से करने से लंबाई बढ़ने में मदद मिलती है,साथ ही आप मानसिक रूप से भी स्वस्थ रहते है।ताड़ासन को शुरुआत में करने के लिए किसी योग विशेषज्ञ की मदद ले सकते है।


2.वजन कम करने में ताड़ासन फायदेमंद (Tadasana is beneficial in reducing weight in Hindi):

वजन बढ़ना जितना आसान है,उससे कई ज्यादा मुस्किल होता है वजन को कम करना,कुछ लोग वजन को कम करने के लिए खाना पीना बंद कर देते है,जिसके कारण वो बीमार पड़ जाते है,वजन जो घटाने के लिए सही खान पान और योगाभ्यास की जरूरत होती है,हमारे योग विशेषज्ञ मानते है की नियमित रूप से योग करने पर आप खुद को फिट रख सकते है,वजन घटाने के लिए बहुत ही लाभकारी आसनों में ताड़ासन को माना जाता हैं,ताड़ासन या तिर्यक ताड़ासन को नियमित रूप से करने पर वजन को नियंत्रित किया जा सकता हैं।

पेट की चर्बी को कैसे घटाएं yoga, घरेलू उपचार

3.मधुमेह में ताड़ासन फायदेमंद (Tadasana is beneficial in diabetes in Hindi):

मधुमेह की बीमारी को ठीक करने के लिए बहुत से योगाभ्यास है,इस योगाभ्यास में ताड़ासन का नाम भी शामिल हैं,ताड़ासन पर किए गए एक शोध के अनुसार इस बात की पुष्टि हुई है की ताड़ासन को नियमित रूप से करने पर टाइप–2 प्रकार के मधुमेह को ठीक करने में मदद मिलती है,इस सोध के अनुसार ये बात सामने आई है की ताड़ासन के अभ्यास से रक्त में ग्लूकोज की मात्रा को कंट्रोल किया जा सकता हैं,इस प्रकार अगर आप अपने शुगर लेवल को संतुलित रखना चाहते हैं तो आप नियमित रुप से ताड़ासन कर सकते हैं।

मधुमेह क्या है,मधुमेह के प्रकार,मधुमेह को ठीक करने के उपचार

4.घुटने,पीठ दर्द में ताड़ासन फायदेमंद (Tadasana is beneficial in knee and back pain in Hindi):

वैसे ताड़ासन पूरे शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता हैं लेकिन घुटने,कमर या फिर पीठ में दर्द के लिए ये आसन बहुत ही लाभकारी माना जाता हैं,क्योंकि इस आसन को करते वक्त रीड की हड्डी,पैर सीधे करने पड़ते है,जिसके कारण से इन सभी अंगों में एक खिंचाव उत्पन्न होता है,जिससे कमर और पीठ मजबूत होते है।लेकिन एक बात का ध्यान रहे घुटनों में दर्द होने पर इस आसन को पंजों पर खड़े होकर न करे बल्कि पूरे पैर पर खड़े होकर इस आसन को करे,इस आसन को नियमित रूप से किया जाए तो सायटिका का दर्द बहुत हद तक कम किया जा सकता है। कमर दर्द,या फिर पैर दर्द में इस आसन को करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर ले।

कमर दर्द या जोड़ों के दर्द को ठीक करने के असरदार घरेलू उपचार

 4.आसन में सुधार के लिए ताड़ासन फायदेमंद (Tadasana is beneficial for improving posture in Hindi):

शरीर के पोश्चर को ठीक रखने के लिए रीढ़ की हड्डी का सीधा रहना बहुत ही जरूरी होता हैं,और इस रीढ़ की हड्डी को सीधा रखने में ताड़ासन अत्यंत लाभदायक आसन माना जाता है,योग एक्सपर्ट बताते है की ताड़ासन करने से मुद्रा झुकना या कूबड़ को सही करके शरीर के संरेखण और मुद्रा को बेहतर बनाने में मदद करती है।


 5. ताकत और लचीलापन बढाने में ताड़ासन फायदेमंद (Beneficial in increasing strength and flexibility in Hindi):

शरीर में ताकत और लचीलापन लाने के लिए कई तरीके के योगाभ्यास करने को मिल सकते हैं,इन्ही योगाभ्यास में ताड़ासन को भी शामिल किया जाता हैं,योग विशेषज्ञ के अनुसार ताड़ासन को नियमित रूप से करने से पैर की मांसपेशियों की ताकत को विकसित करने में मदद करता है, साथ ही रीढ़, कूल्हों और कंधों का लचीलापन भी बढ़ाता है।


 6. सांस की बीमारी में ताड़ासन फायदेमंद (Tadasana is beneficial in respiratory disease in Hindi):

इस आसन को करते वक्त सांसो पर भी ध्यान केंद्रित करना पड़ता है,जिससे हमारे फेफड़े साफ और स्वच्छ बनते है,योग विशेषज्ञ इसे सांस से संबंधित बीमारियो के लिए काफी लाभदायक कहते है,योग एक्सपर्ट कहते है कि यह मुद्रा सांस पर ध्यान देने में मदद करती है, जिससे बेहतर सांस की जागरूकता और नियंत्रण होता है।


 7. तनाव और चिंता कम करने में ताड़ासन फायदेमंद (Tadasana is beneficial in reducing stress and anxiety in Hindi):

तनाव और चिंता से ग्रसित रहने से व्यक्ति नींद ना आना,डिप्रेशन आदि की समस्या होने लगती हैं,योग एक्सपर्ट कहते है की इस आसन को नियमित रूप से करने से ये मन को  विश्राम और शांति को बढ़ावा देने  में मदद करता है तथा मन को शांत करने और तनाव और चिंता को कम करने में मदद कर सकता है।

 8.मानसिक स्वास्थ के लिए ताड़ासन फायदेमंद (Tadasana beneficial for mental health in Hindi):

मानसिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए ताड़ासन एक लाभकारी आसन माना जाता हैं,हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार ताड़ासन को नियमित रूप से करने से यह मन को एकाग्र और शांत रखने में मदद करता है, क्यूंकि इस पोज़ को बनाए रखने के लिए आवश्यक मानसिक फोकस समय के साथ एकाग्रता और फ़ोकस को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।


 कुल मिलाकर, ताड़ासन एक सरल लेकिन शक्तिशाली मुद्रा है जो शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों में सुधार करने में मदद कर सकती है। यह शुरुआती लोगों के साथ-साथ उन लोगों के लिए भी एक अच्छा शुरुआती बिंदु है जो चोट से ठीक हो रहे हैं या पुराने दर्द से जूझ रहे हैं।


ताड़ासन कब करना चाहिए (when to do tadasana in Hindi)

किसी भी आसन या प्राणायाम को करने का सही समय सुबह का समय माना जाता हैं,साथ ही यदि आप आसन करने पहले शौच कर ले और पेट एक दम खाली रहे तो यह अति उत्तम माना जाता हैं परंतु अगर आप सुबह के समय किसी कारण वश इस आसन को करने में असमर्थ है तो ऐसे में आप इस आसन को करने से चार से छह घंटे कुछ भी ना खाया हो और आसान करने से पहले शौच कर ले।

ताड़ासन कितनी देर तक करना चाहिए (for how long should tadasana be done in Hindi):

ताड़ासन को करने के लिए अगर आप पहली बार इस योग को कर रहे हैं तो आठ से दस बार ही इस आसन को करने की कोशिश करे,परंतु समय बीतने पर धीरे धीरे इस आसन के समय को बढ़ाते चले जाएं और इस आसन को पांच मिनट तक रोजाना करे।

ताड़ासन के सावधानियां (Precautions of Tadasana in Hindi):

अभी तक आपने इस लेख के माध्यम से ताड़ासन के फायदे के बारे में जानकारी प्राप्त की,लेकिन अब इस लेख में ताड़ासन करते वक्त क्या क्या सावधानी रखनी पड़ती हैं,इसके बारे में जानकारी दी जाएगी।

  • अगर आप इस आसन को शुरुआत करने जा रहे है,तो ऐसे में योग एक्सपर्ट की देखरेख में आप इस आसन को कर सकते हैं।
  • ताड़ासन ऐसे व्यक्ति को बिलकुल भी नहीं करनी चाहिए,जिनके घुटने में बहुत ज्यादा दर्द हो।
  • ऐसी महिलाएं जो गर्भवती है वो इस आसन को ना करे।
  • सिर में दर्द रहने पर भी इस आसन का अभ्यास उस वक्त नहीं करनी चाहिए।
  • अगर आपका ब्लड प्रेसर ज्यादा या कम हो तो भी आप इस आसन को करने से बचे।
  • अगर आप शुगर की मरीज है तो आप इस आसन को करने से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

निष्कर्ष:

इस लेख में ताड़ासन के फायदे,ताड़ासन करने की विधि,ताड़ासन करने में सावधानी आदि के बारे में जानकारी दी गई है उम्मीद है कि आपको मेरा यह लेख पसंद आया होगा परंतु अगर आप मुझसे स्वास्थ्य से संबंधित कोई भी सवाल पूछना चाहते हैं तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं मैं आपके प्रश्नों के उत्तर देने की पूरी कोशिश करूंगी धन्यवाद!

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अगर फेफड़ा खराब हो जाए तो व्यक्ति कितने दिन तक जीवित रह सकता है :फेफड़े साफ कैसे करे ।

फेफड़े को फुप्फुस के नाम से भी जाना जाता है, फेफड़ा हमारे शरीर का एक अभिन्न अंग है। बिना फेफड़े के मनुष्य के शरीर की कल्पना ही नही की जा सकती है।हमारे फेफड़े सांस लेने और छोड़ने दोनो का कार्य करते है, लेकिन अगर यही फेफड़े सही तरीके से कार्य करने में असमर्थ हो जाए तो हमे सांस लेने में भी परेशानी हो सकती हैं। हमारे फेफड़े खराब होने के कई सारे कारण हो सकते है जैसी की गलत खान–पान, पर्यावरण प्रदूषण, धूम्रपान, स्मोकिंग आदि कारण हो सकते है। फेफड़े खराब होने से हम कई सारी बीमारियो से ग्रसित हो सकते है, ऐसे में इन बीमारियो से बचने और अपने फेफड़ो को साफ रखने के लिए हमे कुछ उपाय की आवश्यकता होती है, तो चलिए आज इस लेख मे हम फेफड़ा कैसे साफ करें,  फेफड़ा खराब होने पर कितना दिन तक जीवित रह सकता है आदमी   तथा फेफड़ों से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बातों पर जानकारी देने की कोशिश करेंगे। विषय सूची फेफड़ा क्या है  फेफड़ा का कार्य फेफड़ा खराब होने के कारण फेफड़े खराब होने पर होने वाली बीमारिया फेफड़े स्वस्थ्य बनाने के लिए क्या खाए फेफड़े साफ कैसे करे  फेफड़ो को मजबूत बन

मानसिक स्वास्थ्य क्या है? लक्षण और उपाय, बच्चो में मानसिक स्वास्थ्य के लक्षण और उपाय

 एक कहावत है हमारे भारत देश में की( मन स्वस्थ तो तन स्वस्थ ) आज के दौर में हमारे भारत में ही नहीं पूरे विश्व में मानसिक रूप से स्वास्थ्य रहना एक बड़ी चुनौती बन चुकी है,स्टूडेंट को पढ़ाई की टेंशन,युवा को नौकरी की टेंशन ,बुजुर्गो को घर की टेंशन,इस टेंशन से हम अपने मानसिक स्वास्थ्य को बिगड़ के रख देते है और जब मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ता हैं तो अनेको बीमारियो को जन्म देता है जैसे की हाई ब्लड प्रेशर या फिर लो ब्लड प्रेशर,हार्ट अटैक शुगर आदि।  आ ज हम इस लेख में मानसिक स्वास्थ को प्रभावित करने वाले कारक,  मानसिक स्वास्थ्य के उपाय  मानसिक हलचल को कम करने के लिए क्या करें, इन सभी बातों पर जानकारी दी जाएगी। Contents [ hide ] मानसिक स्वास्थ्य क्या है (what is mental health in Hindi):- मानसिक स्वास्थ्य का सीधे शब्दों में अर्थ है की व्यक्ति तनाव ग्रस्त न हो,सुखी हो तथा सामान्य रूप से अपना जीवन यापन करता हो। और अपने कर्तव्य का निर्वहन करता हो और समाज हित में भी काम करें। लेडेन के अनुसार मानसिक स्वास्थ्य का अर्थ वास्तविकता के

उज्जायी प्राणायाम के 17 फायदे और नुकसान,उज्जायी प्राणायाम करने की सही विधि:

 हमे स्वस्थ और निरोगी जीवन व्यापन करने के लिए स्वस्थ खानपान के साथ योगाभ्यास करना जरूरी है,क्योंकि अगर हम अच्छे जीवनशैली के साथ नियमित रूप से योगाभ्यास करने से व्यक्ति शारीरिक और मानसिक दोनो रूप से स्वस्थ रह सकता हैं,आज हम इस लेख में उज्जायी प्राणायाम कैसे करे,उज्जायी प्राणायाम के फायदे,उज्जयी प्राणायाम के नुकसान आदि के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे,इस प्राणायाम को करना बिल्कुल ही आसान और स्वास्थ की दृष्टि से और बहुत ही लाभकारी है,योग एक्सपर्ट की माने तो इस प्राणायाम को हर उम्र के व्यक्ति नियमित रूप से कर सकते है,इस प्राणायाम को सही तरीके से करने से  संपूर्ण शरीर को कई प्रकार के लाभ मिल सकते हैं, मस्तिष्क और तंत्रिकाओं को आराम देने के साथ मानसिक स्वास्थ्य विकारों के जोखिम को कम करने और शरीर को स्वस्थ रखने में इसके अभ्यास से फायदा पाया जा सकता है। Contents [ hide ] उज्जायी प्राणायाम क्या है (what is ujjayi pranayama in Hindi): इस प्राणायाम के अभ्यास से वायु को जीता जा सकता  है,उज्जायी प्राणायाम संस्कृत के